जानें मानव रक्‍त के बारे मेें – Know about human blood

0
459

रक्‍त मानव जीवन का सबसे महत्‍वूपर्ण ऊतक है जो द्रव के रूप मेें मानव शरीर में उपस्थित होती है इसका मुख्‍य कार्य ऑक्‍सीजन, हारमोन्‍स, एवं पोषक पदार्थों को शरीर के प्रत्‍येक अंगों, ऊतकों तथा कोशिकाओं तक पहुॅचाना है तो आइये जानते हैं जानें मानव रक्‍त के बारे मेें – Know about Human Blood

जानें मानव रक्‍त के बारे मेें – Know about human blood

रक्‍त हमारे शरीर के लिए जीवन द्रव्‍य है जिसके बिना मानव जीवन संभव नहीं है इसमें मैट्रिक्‍स तरल दशा में होते हैं जिसे प्‍लाज्‍मा कहते हैं इसी प्‍लाज्‍मा में श्‍वेत रक्‍त कणिकाऍ एवं लाल रंक्‍त कणिकाऍ पाये जाते हैं रक्‍त में प्‍लाज्‍मा 55% तथा कणिकाऍ 45% तक उपस्थित होते हैं

क्‍या होता है रक्‍त प्‍लाज्‍मा (What is blood plasma)

रक्‍त प्‍लाज्‍मा हल्‍के पीले रंग का क्षारीय द्रव है जिसमें 90% जल तथा 10% अन्‍य पदार्थ होते हैं इसमें प्रोटीन की सबसे अधिक मात्रा होती है प्रोटीन के कारण ही रक्‍त चिपचिपा होता है इसमें एल्‍ब्‍यूमिन, ग्‍लोब्यूूमिन, तथा फाइब्रिनोजन पाया जाता है जो प्रोटीन के ही रूप हैं फाइब्रिनोजन रक्‍त के थक्‍का जमने में काम करता है तथा रक्‍त को बहने से रोकता है प्‍लाज्‍मा में कैल्सियम, मैग्‍नीशियम एवं पोटेशियम के कार्बोनेट, फास्‍फेट एवं क्‍लोराइड उपस्थित रहते हैं इसके अलावा इसमें प्रोथौम्बिन, विटामिन, एन्‍जाइम तथा एन्‍‍टीबॉटीज होते हैं

रक्‍त कणिकाएं (Blood corpuscles)

रक्‍त कणिकाऍ निम्‍न प्रकार की होती हैं

श्‍वेत रक्‍त कणिकाएं (White blood corpuscles) – ये संख्‍या में लाल रक्‍त कणिकाओं से काफी कम होती हैं लगभग 625 लाल रक्‍त कणिकाओं के पीछे मात्र एक श्‍वेत रक्‍त कणिकाएं होती हैं इसका निर्माण अस्थि मज्‍जा एवं लसीका ग्रंथियों में होता है श्‍वेत रक्‍त कणिकाओं में भक्षण की क्षमता होती है ये बाहरी बस्‍तुओं, जीवाणुओं, विषाणुओं आदि का भक्षण कर लेते हैं इस प्रकार ये शरीर को रोगों से सुरक्षा प्रदान करता है

लाल रक्‍त कणिकाऍ (Red blood corpuscles) – रक्‍त्‍ में इनकी संख्‍या सर्वाधिक होती है ये नन्‍ही-नन्‍ही गोल व चपटी टिकियों के समान होती हैंं इनका मुख्‍य कार्य ऑक्‍सीजन और कार्वन डाइ ऑक्‍साइड का परिवहन करना है इनमें हीमोग्‍लोबिन उपस्थित रहता है जो गैसों को आदान-प्रदान में मदद करता है इनका निर्माण अस्थि मज्‍जा में एवं विनाश प्‍लीहा में तथा अल्‍प मात्रा में यकृत में होता है

बिम्‍बाणु (PLatelets) – इन्‍हें थ्रोम्‍बोसाइटस भी कहते हैं इनका आकार लाल रक्‍त कणिकाऍ से भी छोटा होता है ये रक्‍‍‍त को जमने मेें सहायता करते हैंं किसी- किसी रोग की स्थिति में इनकी संख्‍या अत्‍यधिक कम हो जाती है ऐसी स्थिति में त्‍वचा में से रक्‍त का निस्रवण होने लगता है जिसके कारण त्‍वचा पर लाल-लाल चकत्‍ते पड जाते हैं

रक्‍त के बारे में कुछ रोचक बातें – Some interesting Facts about blood

  • एक मनुष्य के शरीर में लगभग 05-06 लीटर रक्त रहता है
  • सबसे पहली बार रक्‍त का परिसंचरण 1628 में ब्रिटिश चिकित्‍सक विलियम हार्वे ने किया था
  • दुनिया का पहला ब्‍लड बैक संयुक्‍त राज्य अमेरिका में 1973 में बनाया गया था
  • मानव शरीर में खून की मात्रा कुल वजन का 7% होती है
  • एक स्‍वस्‍थ शरीर में खून की रफ़्तार 400 किमी प्रति धंटा होती है
  • पूरे शरीर में एक बार रक्त संचरण (Blood Circulation) में लगभग 23 सेकेण्ड का समय लगता है
  • मनुष्य में चार (“A”, “B”, “AB”, “O”) रक्त समूह पाया जाता है
  • रक्‍त समूह की खोज सन 1901 में लैण्‍ड स्‍टीनर ने की थी
  • एक स्वस्थ्य मनुष्य का रक्तदाब (Blood pressure) पारे पर “120 / 80mm” होता है
  • रक्त समूह O सर्वदाता (Universal Blood Donor) होता है
  • रक्त समूह AB  सर्वग्राही (Universal Blood Recipient) होता है

Tag – Human Blood with full explanation you should know, Blood: Everything you need to know, Interesting Facts About Blood, Know Your Blood, composition of blood

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here